• रचनाकार पूरी पांडुलिपि अथवा पांडुलिपि में से चुनिन्दा रचनाएं (कुल पांडुलिपि से न्यूनतम 15 % रचनाएं) माइक्रोसॉफ्ट वर्ड अथवा पीडीएफ फ़ाइल में ईमेल द्वारा भेजें – contact@anjumanpublication.com
  • पांडुलिपि के साथ लेखकीय परिचय तथा मोबाइल नंबर भी भेजें.
  • यदि उपन्यास की पूरी पांडुलिपि अथवा अंश भेज रहे हैं तो १ से २ पृष्ठ का कथासार अवश्य भेजें.
  • आप पांडुलिपि को डाक अथवा कोरियर द्वारा भी भेज सकते हैं. (हस्तलिखित अथवा टाईपशुदा)

Anjuman Prakashan
c/o Janta Pustak Bhandar 
942, Arya Kanya Chauraha,  Mutthiganj
Allahabad-211003, Uttar Pradesh, India

  • पांडुलिपि प्राप्त होने पर हम उसे अपने संपादक मंडल को भेजेंगे|
  • यदि आवश्य समझा गया तो पांडुलिपि के संबंध में संपादक आपसे विचार विमर्श करेंगे, इसलिए अपना मोबाइल नंबर अवश्य दें
  • इसके बाद संपादक मंडल के द्वारा पांडुलिपि स्वीकृत अथवा अस्वीकृत होने की सूचना आपको दी जायेगी| सामान्यतः पांडुलिपि प्राप्त होने के बाद इस प्रक्रिया में  8 से 10 दिन  का समय लगता है
  •  संपादक मंडल द्वारा प्रकाशनार्थ स्वीकृत होने पर, इसकी सूचना के साथ ही आपको नियम व शर्त की 12 पृष्ठ की एक फाईल भेजी जायेगी जिसमें प्रकाशन प्रक्रिया, लेखकीय प्रतियाँ, प्रकाशन में लगने वाला समय, मार्केटिंग, लोकार्पण, वितरण, रॉयल्टी आदि के विषय में विस्तार से बताया गया है|
  • यदि रचनाकार को नियम व शर्त स्वीकार्य होगा तो अनुबंध से संबंधित प्रक्रिया को पूरा किया जायेगा
  • इसके बाद नियमानुसार प्रकाशन तथा संपादन कार्य आरंभ किया जायेगा

विशेष ध्यान दें

  • पांडुलिपि प्राप्त होने के बाद संपादक मण्डल की स्वीकृति के बाद ही नियम व शर्त की फाईल भेजी जाती है, पांडुलिपि भेजे बिना नियम व शर्त की फाईल भेजने का आग्रह न करें.
  • कृपया पांडुलिपि भेजने की जगह रचना पढने के लिए ब्लॉग, फेसबुक आदि का लिंक न भेजें पूरी पांडुलिपि अथवा पांडुलिपि में से चुनिन्दा रचना.
  • यदि पूरी पांडुलिपि न भेजना चाहें तो न्यूनतम 15 % रचनाएं अवश्य भेजें
  • किसी अन्य जानकारी के लिए ईमेल करें – contact@anjumanpublication.com

फ़ाइल अपलोड करें

अथवा

संपर्क करें