1614518_429970377161660_7030729113603483703_o

बालगीत – गिलहरी (डॉ. रूपचन्द्र शास्त्री ‘मयंक’) – अंक 2

डॉ. रूपचन्द्र शास्त्री "मयंक" 
 टनकपुर रोड, ग्राम-अमाऊँ, तहसील-खटीमा, जिला-ऊधमसिंहनगर, उत्तराखण्ड, (भारत) - 262308.
 Mobiles: 09997996437, 9456383898

बैठ मजे से मेरी छत पर,
दाना-दुनका खाती हो!
उछल-कूद करती रहती हो,
सबके मन को भाती हो!!


तुमको पास बुलाने को,
मैं मूँगफली दिखलाता हूँ,
कट्टो-कट्टो कहकर तुमको,
जब आवाज लगाता हूँ,

कुट-कुट करती हुई तभी तुम,
जल्दी से आ जाती हो!
उछल-कूद करती रहती हो,
सबके मन को भाती हो!!

नाम गिलहरी, बहुत छरहरी,
आँखों में चंचलता है,
अंग मर्मरी, रंग सुनहरी,
मन में भरी चपलता है,

हाथों में सामग्री लेकर,
बड़े चाव से खाती हो!
उछल-कूद करती रहती हो,
सबके मन को भाती हो!!

पेड़ों की कोटर में बैठी
धूप गुनगुनी सेंक रही हो,
कुछ अपनी ही धुन में ऐंठी
टुकर-टुकरकर देख रही हो,

भागो-दौड़ो आलस छोड़ो,
सीख हमें सिखलाती हो!
उछल-कूद करती रहती हो,
सबके मन को भाती हो!!

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *