farmood

चार हजल – फ़रमूद इलाहाबादी (अंक – 3)

 फ़रमूद इलाहाबादी जन्म – १० फरवरी १९५६ शिक्षा – इंजीनिरिंग इन इलेक्ट्रानिक्स सम्प्रति दूरदर्शन केन्द्र में इंजीनियर संपर्क – ७४/१, नया पुरा, करेली, इलाहाबाद – २११०१६ मोबाइल ९४१५९६६४९७ का़ग़ज थोबड़ा पोंछ के उसने जो गिराया का़ग़ज हमने सौ बार वो आँखों से लगाया का़ग़ज’ सि़र्फ रिश्वत के न मिलने से बड़े बाबू ने यार द़फ्तर में कई रो़ज घुमाया का़ग़ज …

14500204_1134409116645315_8777486496978056067_o

ग़ज़ल – अब्बास क़मर (अंक-3)

अब्बास क़मर ईमेल – abbasfreelancer02@gmail.com 1. आज पाज़ेब की छनछन ने रुलाया हमको आपका इश्क ये किस मोड़ पे लाया हमको पहले उंचाइयां बख्शीं… मेरे हमदम ने मुझे और फ़िर अपनी ही नज़रों में गिराया हमको वक़्त की मार ने इस तर्ह बिगाड़ी सूरत आईना देख के पहचान न पाया हमको रौशनी जश्ने-चराग़ां में थी मसरूफ़ बहोत रास्ता आज अँधेरों …

10390141_693487417416317_5546619809332635764_n

पांच ग़ज़लें (दिनेश कुमार दानिश) अंक – 2

दिनेश कुमार जन्मतिथि — 25.10.1977 जन्मस्थान — पूंडरी, जिला- कैथल। हरियाणा। स्थायी पता — नजदीक डाकघर। गाँव – पूंडरी। जिला – कैथल। हरियाणा। pin code — 136026 सम्पर्क सूत्र — dkdaanish77@gmail.com 09896755813 1 दिलों में प्यार का दरिया अगर सूखा नहीं होता तो हरगिज़ भाइयों में घर का बँटवारा नहीं होता बिना परखे हक़ीक़त का भी अंदाज़ा नहीं होता समन्दर …

1

पांच ग़ज़लें – रमा वर्मा – अंक 2

  रमा वर्मा वर्तमान पता : प्लाट नंबर – १३, आशीर्वाद नगर, हुडकेश्वर रोड , नियर : रेखा नील काम्प्लेक्स , नागपुर- २४ दूरभाष नंबर : ०७१२/२७५३७१२, ७६२०७५२६०३ ई मेल : ramaverma123@gmail.com 1. कही बात से हम मुकरते नहीं हैं कभी कर्म करने से डरते नहीं हैं पड़ें स्वार्थ में और मतलब की खातिर दगा हम किसी से भी करते …

20160707_135112

पांच ग़ज़लें (शरीफ़ अहमद  क़ादरी) अंक – 2

शरीफ़ अहमद  क़ादरी “हसरत” पता  –  कंडेल  बाज़ार  श्योपुर  (म .प्र .) संवाद  – शायरी  का शौक़  मुझे  शुरू  से रहा  लकिन सही  रहनुमाई नहीं  मिल पा रही थी फिर तकरीबन दो साल डॉ रफीक़ गिरधरपुरी की शागिर्दी में रहा| उसके बाद डॉ ज़ाकिर नश्तरी की रहनुमाई हासिल हुई इसके अलावा ओपन बुक्स ऑनलाइन मेरे लिए मशअल ए राह साबित हुई डॉ योगराज प्रभाकर …

IMG_20160827_075707

पांच ग़ज़लें – अब्बास क़मर “फैज़ी” – अंक-2

अब्बास क़मर “फैज़ी” जौनपुर उत्तर प्रदेश के निवासी हैं| साहित्यिक जगत में दिलचस्पी तो बहोत पुरानी है पर क़लम हाल ही में उठाई है! कई ग़ज़लें कही हैं पर अभी तक प्रकाशित नहीं हुई हैं!  ग़ज़लों का मेयार क्या है आप ख़ुद देखें –  ग़ज़ल – 1 मेरी ख्वाहिश है मैं ऐसा मकान हो जाऊँ| रहूँ ज़मीं पे मगर आसमान हो जाऊँ| …

????????????????????????????????????

पांच ग़ज़लें – एहतराम इस्लाम – अंक-1

एहतराम इस्लाम हिन्दी और उर्दू  ज़बानों के बीच थरथराते एक ऐसे पुल का नाम है, जो बड़े स्तर पर हमारे समय और समाज को पिछले लगभग साढ़े तीन दशकों से जोड़ने का काम करता रहा है। भाषाई सौहाद्र्र, धर्म निरपेक्ष भंगिमा, हिन्दुस्तानी लबो-लहजा, निथरी हुयी पारदर्शी जीवन दृष्टि, कथ्य और शिल्प का सामन्जस्य सहेजते इस ग़ज़लकार ने समकालीन ग़ज़ल लेखन …

183959_547498851934312_1438092124_n

पांच ग़ज़लें – सज्जन धर्मेन्द्र – अंक – 1

सज्जन धर्मेन्द्र अंतर्जाल पर ‘सज्जन’ धर्मेन्द्र एक जाना पहचाना नाम हैं। आपका पूरा नाम धर्मेन्द्र कुमार सिंह और ‘सज्जन’ उपनाम हैं। जन्म उत्तर प्रदेश के प्रतापगढ़ जिले में 22 सितंबर, 1979 को हुआ, प्रारंभिक शिक्षा प्रतापगढ़ के राजकीय इंटर कालेज से प्राप्त करने के बाद इन्होंने काशी हिन्दू विश्वविद्यालय से प्रौद्योगिकी स्नातक और भारतीय प्रौद्योगिकी संस्थान रुड़की से प्रौद्योगिकी परास्नातक की उपाधियाँ …

rakesh

पांच ग़ज़लें – राकेश कुमार “दिलबर” – अंक-1

27 जुलाई 1972 को उत्तर प्रदेश के सुल्तानपुर ज़िले में कादीपुर तहसील के एक गाँव विजेथुआ, राजापुर में पैदाइश। माँ बाप ने नाम राकेश दूबे रखा, इब्तदायी तालीम गाँव के स्कूल में ही हासिल की और इण्टरमीडिएट पास करने के बाद तालीम को खैरबाद कह दिया। तब तक तबीयत में सा़जो-आहंग का जादू अपना असर घोल चुका था और संगीत …

zahir

पांच ग़ज़लें – ज़हीर क़ुरेशी – अंक -1

ज़हीर कुरेशी जन्म : ५ अगस्त १९५० ई. जन्म स्थान : चन्देरी, जिला-अशोक नगर, (म.प्र.) रचनाकाल : १९६५ से अब तक … निरंतर सृजन की मूल विधा : हिन्दी ग़ज़ल प्रकाशित ग़ज़ल-संग्रह : १. लेखनी के स्वप्न (१९७५), २. एक टुकड़ा धूप (१९७९), ३. चाँदनी का दु:ख (१९८६) ४. समंदर ब्याहने आया नहीं है (१९९२), ५. भीड़ में सबसे अलग …