pratap_pic

दोहे – प्रताप नारायण सिंह – अंक – 2

प्रताप नारायण सिंह एक खंड काव्य – “सीता :एक नारी” प्रेस में है और शीघ्र प्रकाशनार्थ है। कुछ कवितायें गर्भनाल और परिंदे पत्रिका में प्रकाशित हुयी हैं।  इ पत्रिकाओं – अनुभूति, साहित्यकुंज इत्यादि में कई रचनाएँ प्रकाशित। अनुभूति और गर्भकाल में कहानियाँ भी प्रकाशित हैं। देश बना बाज़ार अब, चारों ओर दुकान राशन है मँहगा यहाँ, सस्ता है ईमान राजा- रानी …

manoshi

शाम – चाँद – भोर (हाइकु – मानोशी) – अंक – 1

मानोशी ड भारत – छत्तीसगढ़ के कोरबा शहर में जन्म ड बंगला भाषी परिवार में लालन-पालन होने के कारण बंगला साहित्य से गहरा लगाव किंतु हिन्दी वातावरण में रहने से हिन्दी व उर्दू के प्रति प्रेम। ड घर में साहित्य व संगीत का वातावरण होने के कारण बचपन से ही इनके प्रति गहरा लगाव। विद्यार्थी जीवन से ही मौलिक लेखन …

kewal

तुम ज्योति शिखा पथ प्रेरक सी – (दुर्मिल सवैया – केवल प्रसाद “सत्यम”) – अंक – 1

केवल प्रसाद ‘सत्यम’ जन्म तिथि – १०.०७.१९६३ जन्म स्थान – लखनऊ, उत्तर प्रदेश पिता का नाम – स्व० राम फेर माता का नाम – स्व० राम रती शिक्षा – स्नातक पता बी-5, कौशलपुरी, खरगापुर गोमती नगर विस्तार, लखनऊ पिन-226010  मोबाइल संख्या 9415541353 लखनऊ स्थित साहित्यिक संस्थाएँ ‘चेतना साहित्य परिषद’, ‘अखिल भारतीय नवोदित साहित्कार परिषद’, ‘लक्ष्य संस्था’, ‘अखिल भारतीय अगीत परिषद’ …