gulab singh

सात गीत – गुलाब सिंह (अंक – 3)

५ जनवरी, १९४० को इलाहाबाद जनपद के बिगहनी गांव में जन्म हुआ। जन्मतिथि के द्वन्द्व के कारण जन्म कुण्डली से भी अपरिचित ही रह गये। नौकरी के कारण ५ जनवरी, १९४० का दिन ही सनद हो गया और वक्त पर काम आ रहा है। यहां-वहां गये लेकिन गांव के ही होकर रह गये। किसी ने ’’ग्राम्य जीवन का विशिष्ट नवगीत‘‘ …

IMG_20160718_221806

तीन गीत – दीपक गोस्वामी “चिराग” (अंक -3)

दीपक गोस्वामी “चिराग” शिक्षा- परास्नातक (गणित), शिक्षा-स्नातक सम्प्रति-  सहायक अध्यापक – परिषदीय पूर्व माध्यमिक विद्यालय अलावलपुर, बहजोई (सम्भल) उ.प्र. सम्पर्क सूत्र – शिव बाबा सदन,  कृष्णा कुंज बहजोई,  (सम्भल) उत्तर प्रदेश ,भारत,   पिन 244410 मो -9548812618 Email: deepakchirag.goswami@gmail.com (1) हूं मैं’ जननी तेरी, हूं मैं’ धरिणी धरा दूं मैं’ भोजन वसन, रत्न सोना खरा॥ चीर लेती मैं’ छाती,क्षुदा के लिये हूं बहाती’ मैं गंगा, तृषा के …

1614518_429970377161660_7030729113603483703_o

बालगीत – गिलहरी (डॉ. रूपचन्द्र शास्त्री ‘मयंक’) – अंक 2

डॉ. रूपचन्द्र शास्त्री “मयंक”  टनकपुर रोड, ग्राम-अमाऊँ, तहसील-खटीमा, जिला-ऊधमसिंहनगर, उत्तराखण्ड, (भारत) – 262308. Mobiles: 09997996437, 9456383898 बैठ मजे से मेरी छत पर, दाना-दुनका खाती हो! उछल-कूद करती रहती हो, सबके मन को भाती हो!! तुमको पास बुलाने को, मैं मूँगफली दिखलाता हूँ, कट्टो-कट्टो कहकर तुमको, जब आवाज लगाता हूँ, कुट-कुट करती हुई तभी तुम, जल्दी से आ जाती हो! उछल-कूद करती रहती हो, …

ajay kumar singh

चार गीत – अजय कुमार सिंह – अंक-1

अजय कुमार सिंह  जन्मतिथि- 29 नवम्बर 1985  जन्मस्थान- उत्तर-प्रदेश के गाज़ीपुर जिले के एक छोटे से सीमान्त गाँव का पैत्रिक घर। माता श्रीमती उर्मिला प्रकाश सिंह और पिता श्री जय प्रकाश सिंह कालान्तर में लखनऊ में आकर बस गये। पिता लोक निर्माण विभाग में अवर-अभियन्ता के पद पर कार्यरत हैं; जिसके कारण आपको प्रारंभिक शिक्षा के दौरान कई स्कूल बदलने …

yash

पांच नवगीत – यश मालवीय – अंक-1

यश मालवीय जन्म : 18 जुलाई  1962  शिक्षा : इलाहबाद विश्वविद्यालय से स्नातक सम्प्रति : ए.जी. ऑफ़िस इलाहाबाद, उत्तर प्रदेश में कार्यरत पिता : उमाकांत मालवीय सम्पर्क : ‘रामेश्वरम’, ए-111, मेंहदौरी कॉलोनी, इलाहाबाद 211004 मो.- (+91)9839792402 प्रकाशित कृतियां : नवगीत संग्रह – कहो सदाशिव, उड़ान से पहले, एक चिड़िया अलगनी पर एक मन में, बुद्ध मुस्कुराए, एक आग आदिम, कुछ बोलो चिड़िया, …