zahir

तुम्हारा शिष्य, हमारे पाले में आ गया है! – संस्मरण -ज़हीर कुरेशी – अंक -2

अब तो छंद-मुक्त और मुक्त-छंद कविता के सुपरिचित कवि पवन करण भी 51 वर्ष आयु की सीमा-रेखा पार कर चुके हैं। मेरे खयाल से वर्ष 1982 में पवन यही कोई अठारह साल के रहे होंगे। आकण्ठ किसी के प्यार में डूबे हुए। बाद की अपनी ”किस तरह मिलूँ तुम्हें” कविता की तरह अनेक कामनाएँ पाले हुए। 1982 में पवन करण …

prtima

अनकहे अ़फसाने – कहानी – अंक 2

प्रतिमा त्रिपाठी गणेशपुरम, इलाहाबाद ईमेल – pratima.pra13@gmail.com   चिलचिलाती धूप में अब और चलने को जी नहीं चाहता था पर दूर तक किसी टैक्सी का निशान नहीं था, जो गुजरी भी वो या तो भरी हुई थी या रुकी नहीं। सोच ही रही थी थोड़ा और अपने को खींच सकूँ तो मेट्रो तक पहुँच सकती हूँ पर धूप राख करने …

10418299_10202530849738075_3157146824742977495_n

छ: लघुकथाएँ – ललित कुमार मिश्रा – अंक -2

ललित कुमार मिश्रा ‘सोनी ललित’ ७८ए, अजय पार्क, गली नंबर ७, नया बाजार, नजफगढ़, नयी दिल्ली ११००४३ ईमेल: sonylalit@gmail.com, मोबाइल: 9868429241   खौफ़ सोहन आज ही छेड़छाड़ के आरोप में छ: महीने की सजा काट बाहर आया था। बाहर आते ही ज्यों ही उसने मोहन को देखा अपने रंग में आ गया। ‘‘यार आज गाय टेस्ट करने का मन कर …

kyoki aurat kattar nahi hoti

समीक्षा – क्योंकि औरत कट्टर नहीं होती (समीक्षक : आरिफा एविस) अंक – 2

  ‘क्योंकि औरत कट्टर नहीं होती’ डॉ. शिखा कौशिक ‘नूतन’ द्वारा लिखा गया लघु कथा संग्रह है जिसमें स्त्री और पुरुष की गैर बराबरी के विभिन्न पहलुओं को छोटी-छोटी कहानियों के माध्यम से सशक्त रूप में उजागर किया है. इस संग्रह में हमारे समाज की सामंती सोच को बहुत ही सरल और सहज ढंग से प्रस्तुत किया है, खासकर महिला विमर्श …

10390141_693487417416317_5546619809332635764_n

पांच ग़ज़लें (दिनेश कुमार दानिश) अंक – 2

दिनेश कुमार जन्मतिथि — 25.10.1977 जन्मस्थान — पूंडरी, जिला- कैथल। हरियाणा। स्थायी पता — नजदीक डाकघर। गाँव – पूंडरी। जिला – कैथल। हरियाणा। pin code — 136026 सम्पर्क सूत्र — dkdaanish77@gmail.com 09896755813 1 दिलों में प्यार का दरिया अगर सूखा नहीं होता तो हरगिज़ भाइयों में घर का बँटवारा नहीं होता बिना परखे हक़ीक़त का भी अंदाज़ा नहीं होता समन्दर …

1

पांच ग़ज़लें – रमा वर्मा – अंक 2

  रमा वर्मा वर्तमान पता : प्लाट नंबर – १३, आशीर्वाद नगर, हुडकेश्वर रोड , नियर : रेखा नील काम्प्लेक्स , नागपुर- २४ दूरभाष नंबर : ०७१२/२७५३७१२, ७६२०७५२६०३ ई मेल : ramaverma123@gmail.com 1. कही बात से हम मुकरते नहीं हैं कभी कर्म करने से डरते नहीं हैं पड़ें स्वार्थ में और मतलब की खातिर दगा हम किसी से भी करते …

pratap_pic

दोहे – प्रताप नारायण सिंह – अंक – 2

प्रताप नारायण सिंह एक खंड काव्य – “सीता :एक नारी” प्रेस में है और शीघ्र प्रकाशनार्थ है। कुछ कवितायें गर्भनाल और परिंदे पत्रिका में प्रकाशित हुयी हैं।  इ पत्रिकाओं – अनुभूति, साहित्यकुंज इत्यादि में कई रचनाएँ प्रकाशित। अनुभूति और गर्भकाल में कहानियाँ भी प्रकाशित हैं। देश बना बाज़ार अब, चारों ओर दुकान राशन है मँहगा यहाँ, सस्ता है ईमान राजा- रानी …

Self 1

पाँच कविताएँ – संजीव निगम – अंक 2

संजीव निगम  कविता, कहानी, व्यंग्य लेख, नाटक आदि विधाओं में सक्रिय रूप  से  लेखन।  अनेक पत्रिकाओं-पत्रों में रचनाओं का लगातार प्रकाशन। मंचों, आकाशवाणी और दूरदर्शन से रचनाओं का नियमित प्रसारण. रचनाएं कई संकलनों में प्रकाशित हैं जैसे कि: ‘नहीं अब और नहीं’, ‘काव्यांचल’, ‘अंधेरों के खिलाफ’, ‘मुंबई के चर्चित कवि’ आदि. एक व्यंग्य संग्रह प्रकाशित। शेक्सपीयर की 7 कहानियों का अनुवाद पुस्तक रूप में प्रकाशित। कुछ …

कृष्ण सुकुमार

पाँच कविताएँ (कृष्ण सुकुमार) अंक – 2

कृष्ण सुकुमार ए०  एच०  ई०  सी०  , आई. आई. टी. रूड़की रूड़की-247667 (उत्तराखण्ड) मोबाइल नं० 9917888819 ईमेल kktyagi.1954@gmail.com (1) मिटते चले गये वे तमाम रास्ते जिनसे हो कर पहुँचा इस पानी तक! स्पर्श करूँ तो आँसू हैं! प्यास को क्या जवाब दूँ? इसमें उतर जाऊं तो उफनता दरया है! क्या जवाब दूँ कश्ती को? झाँकूं तो शांत निर्मल दर्पण है! …

20160707_135112

पांच ग़ज़लें (शरीफ़ अहमद  क़ादरी) अंक – 2

शरीफ़ अहमद  क़ादरी “हसरत” पता  –  कंडेल  बाज़ार  श्योपुर  (म .प्र .) संवाद  – शायरी  का शौक़  मुझे  शुरू  से रहा  लकिन सही  रहनुमाई नहीं  मिल पा रही थी फिर तकरीबन दो साल डॉ रफीक़ गिरधरपुरी की शागिर्दी में रहा| उसके बाद डॉ ज़ाकिर नश्तरी की रहनुमाई हासिल हुई इसके अलावा ओपन बुक्स ऑनलाइन मेरे लिए मशअल ए राह साबित हुई डॉ योगराज प्रभाकर …

14224756_1834369326798921_5495260028757157214_n

तीन कविताएँ – अनिल कुमार सोनी – अंक -2

अनिल कुमार सोनी anilsoni616561@gmail.com   खोज खोज में फर्क ऊपर वाले नीचे की खोज में, नीचे वाले ऊपर की खोज में, अपनी अपनी खोज में लगे रहते है, फर्क इतना है ऊपर वाले बिना पैसों के खोज लेते है। नीचे वाले साम दाम दण्ड भेद से भी नहीं खोज पाते हैं ? अब तो कुछ नया होना चाहिए अब तो …

1614518_429970377161660_7030729113603483703_o

बालगीत – गिलहरी (डॉ. रूपचन्द्र शास्त्री ‘मयंक’) – अंक 2

डॉ. रूपचन्द्र शास्त्री “मयंक”  टनकपुर रोड, ग्राम-अमाऊँ, तहसील-खटीमा, जिला-ऊधमसिंहनगर, उत्तराखण्ड, (भारत) – 262308. Mobiles: 09997996437, 9456383898 बैठ मजे से मेरी छत पर, दाना-दुनका खाती हो! उछल-कूद करती रहती हो, सबके मन को भाती हो!! तुमको पास बुलाने को, मैं मूँगफली दिखलाता हूँ, कट्टो-कट्टो कहकर तुमको, जब आवाज लगाता हूँ, कुट-कुट करती हुई तभी तुम, जल्दी से आ जाती हो! उछल-कूद करती रहती हो, …

IMG_20160827_075707

पांच ग़ज़लें – अब्बास क़मर “फैज़ी” – अंक-2

अब्बास क़मर “फैज़ी” जौनपुर उत्तर प्रदेश के निवासी हैं| साहित्यिक जगत में दिलचस्पी तो बहोत पुरानी है पर क़लम हाल ही में उठाई है! कई ग़ज़लें कही हैं पर अभी तक प्रकाशित नहीं हुई हैं!  ग़ज़लों का मेयार क्या है आप ख़ुद देखें –  ग़ज़ल – 1 मेरी ख्वाहिश है मैं ऐसा मकान हो जाऊँ| रहूँ ज़मीं पे मगर आसमान हो जाऊँ| …