anjuman logo

संपादकीय – वीनस केसरी – अंक-1

आज अंजुमन ई-पत्रिका का यह पहला अंक प्रस्तुत करते हुए कई बातें मन में हैं| पिछले वर्ष अक्टूबर महीने में अंजुमन प्रकाशन की ओर से छमाही पत्रिका शुरू करने का विचार बना था और पहला अंक (जनवरी-जून-2016) प्रकाशित हुआ था| दूसरे अंक (जुलाई-दिसंबर-2016) की तैयारी भी पूरी हो चुकी है और जल्द ही छमाही पत्रिका का दूसरा अंक आपके हाथों …

????????????????????????????????????

पांच ग़ज़लें – एहतराम इस्लाम – अंक-1

एहतराम इस्लाम हिन्दी और उर्दू  ज़बानों के बीच थरथराते एक ऐसे पुल का नाम है, जो बड़े स्तर पर हमारे समय और समाज को पिछले लगभग साढ़े तीन दशकों से जोड़ने का काम करता रहा है। भाषाई सौहाद्र्र, धर्म निरपेक्ष भंगिमा, हिन्दुस्तानी लबो-लहजा, निथरी हुयी पारदर्शी जीवन दृष्टि, कथ्य और शिल्प का सामन्जस्य सहेजते इस ग़ज़लकार ने समकालीन ग़ज़ल लेखन …

183959_547498851934312_1438092124_n

पांच ग़ज़लें – सज्जन धर्मेन्द्र – अंक – 1

सज्जन धर्मेन्द्र अंतर्जाल पर ‘सज्जन’ धर्मेन्द्र एक जाना पहचाना नाम हैं। आपका पूरा नाम धर्मेन्द्र कुमार सिंह और ‘सज्जन’ उपनाम हैं। जन्म उत्तर प्रदेश के प्रतापगढ़ जिले में 22 सितंबर, 1979 को हुआ, प्रारंभिक शिक्षा प्रतापगढ़ के राजकीय इंटर कालेज से प्राप्त करने के बाद इन्होंने काशी हिन्दू विश्वविद्यालय से प्रौद्योगिकी स्नातक और भारतीय प्रौद्योगिकी संस्थान रुड़की से प्रौद्योगिकी परास्नातक की उपाधियाँ …

ajay kumar singh

चार गीत – अजय कुमार सिंह – अंक-1

अजय कुमार सिंह  जन्मतिथि- 29 नवम्बर 1985  जन्मस्थान- उत्तर-प्रदेश के गाज़ीपुर जिले के एक छोटे से सीमान्त गाँव का पैत्रिक घर। माता श्रीमती उर्मिला प्रकाश सिंह और पिता श्री जय प्रकाश सिंह कालान्तर में लखनऊ में आकर बस गये। पिता लोक निर्माण विभाग में अवर-अभियन्ता के पद पर कार्यरत हैं; जिसके कारण आपको प्रारंभिक शिक्षा के दौरान कई स्कूल बदलने …

yash

पांच नवगीत – यश मालवीय – अंक-1

यश मालवीय जन्म : 18 जुलाई  1962  शिक्षा : इलाहबाद विश्वविद्यालय से स्नातक सम्प्रति : ए.जी. ऑफ़िस इलाहाबाद, उत्तर प्रदेश में कार्यरत पिता : उमाकांत मालवीय सम्पर्क : ‘रामेश्वरम’, ए-111, मेंहदौरी कॉलोनी, इलाहाबाद 211004 मो.- (+91)9839792402 प्रकाशित कृतियां : नवगीत संग्रह – कहो सदाशिव, उड़ान से पहले, एक चिड़िया अलगनी पर एक मन में, बुद्ध मुस्कुराए, एक आग आदिम, कुछ बोलो चिड़िया, …

11870718_817366001703783_5658832164566366056_n

हैप्पी की शादी (कहानी – सन्देश नायक) अंक-1

सन्देश नायक जन्म तिथि – 01 जुलाई,  1985 शिक्षा – स्नातक (मनोविज्ञान) रूचि – लेखन, अध्ययन, संगीत पता – अयोध्या बस्ती, लहचूरा रोड हरपालपुर, जिला-छतरपुर (म.प्र.) ई-मेल – sandesh.nayak04@gmail.com संपर्क – 8376874779 ब्लॉग – swarn-sandesh.blogspot.com   10 फरवरी को रिंका के छोटे भाई की शादी थी। जब से ये समाचार मिला पंडित जी का दिल बा़ग-बा़ग हो गया। काफी अरसे बाद अपने खास …

rakesh

पांच ग़ज़लें – राकेश कुमार “दिलबर” – अंक-1

27 जुलाई 1972 को उत्तर प्रदेश के सुल्तानपुर ज़िले में कादीपुर तहसील के एक गाँव विजेथुआ, राजापुर में पैदाइश। माँ बाप ने नाम राकेश दूबे रखा, इब्तदायी तालीम गाँव के स्कूल में ही हासिल की और इण्टरमीडिएट पास करने के बाद तालीम को खैरबाद कह दिया। तब तक तबीयत में सा़जो-आहंग का जादू अपना असर घोल चुका था और संगीत …

rajat kumar final cover - Copy

पांच कविताएँ – रजत कुमार मिश्रा – अंक-1

मैं सर्वज्ञ क्या लिखूँ जो ना लिखा हो, क्या बताऊँ जो ना दिखा हो, सब ने तो जग छान लिया है, क्या दिखाऊँ जो ना बिका हो। सूर्य शशि दो चक्षु सम थे, रात दिन जग अवलोका, मरू छनाई, वन उधेड़ा पवन संग बन के झोंका। सागरों की तह तलाशी, पर्वत घाटियाँ तराशी, मेघों में जल कण घनाए, वायु घूर्णन …

prtima

दुनिया के दरीचे से (नज़्म – प्रतिमा त्रिपाठी) अंक-1

प्रतिमा त्रिपाठी की ऩज्मों को पढ़ना अपने आप में एक उत्सव है। गर्दिश की स्याह सुरंगों में उम्मीदों के जुगनुओं की बरामदगी है ये ऩज्में। कहन में हवाओं का लोच, लहरों की रवानी, दरिया की जवानी और ह़जारहा पूâलों की शो़खी एक साथ ऱक्स करती सी दिखाई देती है। एक तिलिस्म तारी हो जाए दिलो-दिमाग में, एक बेकाबू बगावत के …

997001_899587756829526_2013424245789307940_n

फेयरनेस क्रीम (कहानी – प्रियंका ओम) अंक-1

प्रियंका ओम नाम कॉमन हो सकता है, पर कहानियाँ नहीं। सच लिखती है, बेहिचक लिखती है, बिंदास लिखती है। इनकी कहानियों में समाज का कड़ुवा सच है, तो जिंदगी की फंतासियां भी। रिश्तों की नाजुक डोर है, तो स्वार्थ की गाँठ भी। प्रियंका इंग्लिश लिट्रेचर से ग्रेजुएट हैं और हिंदी से गजब का लगाव है। जन्म जमशेदपुर में हुआ और …

manoshi

शाम – चाँद – भोर (हाइकु – मानोशी) – अंक – 1

मानोशी ड भारत – छत्तीसगढ़ के कोरबा शहर में जन्म ड बंगला भाषी परिवार में लालन-पालन होने के कारण बंगला साहित्य से गहरा लगाव किंतु हिन्दी वातावरण में रहने से हिन्दी व उर्दू के प्रति प्रेम। ड घर में साहित्य व संगीत का वातावरण होने के कारण बचपन से ही इनके प्रति गहरा लगाव। विद्यार्थी जीवन से ही मौलिक लेखन …

kewal

तुम ज्योति शिखा पथ प्रेरक सी – (दुर्मिल सवैया – केवल प्रसाद “सत्यम”) – अंक – 1

केवल प्रसाद ‘सत्यम’ जन्म तिथि – १०.०७.१९६३ जन्म स्थान – लखनऊ, उत्तर प्रदेश पिता का नाम – स्व० राम फेर माता का नाम – स्व० राम रती शिक्षा – स्नातक पता बी-5, कौशलपुरी, खरगापुर गोमती नगर विस्तार, लखनऊ पिन-226010  मोबाइल संख्या 9415541353 लखनऊ स्थित साहित्यिक संस्थाएँ ‘चेतना साहित्य परिषद’, ‘अखिल भारतीय नवोदित साहित्कार परिषद’, ‘लक्ष्य संस्था’, ‘अखिल भारतीय अगीत परिषद’ …

zahir

पांच ग़ज़लें – ज़हीर क़ुरेशी – अंक -1

ज़हीर कुरेशी जन्म : ५ अगस्त १९५० ई. जन्म स्थान : चन्देरी, जिला-अशोक नगर, (म.प्र.) रचनाकाल : १९६५ से अब तक … निरंतर सृजन की मूल विधा : हिन्दी ग़ज़ल प्रकाशित ग़ज़ल-संग्रह : १. लेखनी के स्वप्न (१९७५), २. एक टुकड़ा धूप (१९७९), ३. चाँदनी का दु:ख (१९८६) ४. समंदर ब्याहने आया नहीं है (१९९२), ५. भीड़ में सबसे अलग …

dilbagh

पांच कविताएँ – दिलबाग सिंह विर्क – अंक-1

दिलबाग विर्क का जन्म २३ अक्तूबर १९७६ को हरियाणा के गाँव मसीतां (जिला – सिरसा) में हुआ। आपने हिंदी और इतिहास में स्नातकोत्तर की उपाधि हासिल की और हिंदी में यू.जी.सी. की राष्ट्रीय पात्रता परीक्षा उत्तीर्ण की। शिक्षण में आपने डिप्लोमा और डिग्री हासिल करके पहले प्राथमिक शिक्षक के रूप में कार्य किया और अब आप हिंदी के लेक्चरार पद …

????????????????????????????????????

कविता क्या है? (आलेख – सौरभ पाण्डेय) अंक-1

जन्मतिथि 3 दिसम्बर 1963 जन्म स्थान देवघर, झारखण्ड कृतियाँ इकड़ियाँ जेबी से (काव्य संग्रह) परों को खोलते हुए – १ (संपादन) संपर्क, मो- 9919889911 सौरभ पाण्डेय का मूल पैत्रिक स्थान उत्तर प्रदेश के बलिया जनपद का द्वाबा परिक्षेत्र है तथा परिवार विगत पच्चीस वर्षों से इलाहाबाद में है. आप उन अध्येताओं में से हैं जिनके लिए साहित्य-कर्म मात्र संप्रेषण नहीं, बल्कि …

anurag sharma

गरजपाल की चिट्ठी (कहानी – अनुराग शर्मा) अंक – 1

एक बेहतरीन किस्सागो, कवि और ब्लॉगर अनुराग शर्मा की कथाएँ पाठकों को अपनी अंतिम पंक्ति तक बांधे रहने में सक्षम है। उनकी कहानी पढ़ते हुए अक्सर पाठक को निजी संस्मरण की अनुभूति होती है। एक पूर्णतः अप्रत्याशित अंत उनके कथालेखन की विशेषता है। ‘बांधों को तोड़ दो’, ‘वैरागी मन’, ‘प्रवासी मन’, एन एलियन अमंग फ्लेशईटर्स व सीक्रेट डायरी ऑफ एन …