10418299_10202530849738075_3157146824742977495_n

छ: लघुकथाएँ – ललित कुमार मिश्रा – अंक -2

ललित कुमार मिश्रा ‘सोनी ललित’

७८ए, अजय पार्क, गली नंबर ७, नया बाजार, नजफगढ़, नयी दिल्ली ११००४३
ईमेल: sonylalit@gmail.com, मोबाइल: 9868429241

 

खौफ़

सोहन आज ही छेड़छाड़ के आरोप में छ: महीने की सजा काट बाहर आया था। बाहर आते ही ज्यों ही उसने मोहन को देखा अपने रंग में आ गया। ‘‘यार आज गाय टेस्ट करने का मन कर रहा है!’’
‘‘तेरा दिमाग ख़राब हो गया है क्या। इस गाय के चक्कर में सैकड़ों लोग कट गए पिछले महीने।’’
‘‘अबे मुझे भी पता है। मुझे भी कटने का शौक नहीं है।’’
‘‘तो फिर?’’
‘‘अबे पप्पू मैं इस चौपाये की नहीं, उस दोपाये की बात कर रहा हूँ।’’

मौन

नेहा ने जैसे ही दरवाजा खोला, शीतलहर से उसका रोम-रोम सिहर गया। वह तुरंत दरवाजा बंद करके बड़बड़ाती हुई अंदर आ गयी, ‘‘ये बुढ़िया आज भी बहाना करके पड़ी है। लगता है सूरज को स्कूल तक छोड़ने के लिए आज भी मुझे ही जाना पड़ेगा। अभी चाय के लिए आवाज़ लगाऊँगी तो बुढ़िया के सारे रोग दूर हो जायेंगे।’’ तभी नेहा को शरारत सूझी, ‘‘माँ जी…माँ जी, चाय तैयार हो गई गई है, उठिए ना!’’ माँ जी टस से मस न हुईं, वे अब भी मौन थीं। माँ जी के शरीर की तरह उनका मौन भी इस कड़कड़ाती ठण्ढ में जम चुका था।

१८+

घर के काम से निवृत्त होने के पश्चात् सीमा फेसबुक खोल कर बैठ गई। उसकी आँखें और उँगलियाँ अब फेसबुक के इशारे पर नर्तन करने लगी थीं। एकाएक उसकी निगाहें रुक सी गईं और उँगलियाँ जैसे सदमे से बेसुध हो सहारा ढूँढने लगीं। थोड़ा सँभलने के पश्चात् वह उठकर सीधे रोहित के कमरे में चली गई और लगभग चिल्ला पड़ी, ‘‘मैंने कहा था ना आपको, उसको इज़ाज़त देने से पहले एक बार पूछ लो कि वह कहाँ जा रही है, पर मेरी सुनते ही कहाँ हैं आप। अब भुगतो।’’
‘‘ओहो!, अब ऐसा क्या कर दिया गीतू ने?’’
‘‘क्या कर दिया… ये देखो, महारानी कहाँ सैर सपाटा कर रही है। ये जगह कोई बच्चों के घूमने की है?’’ सीमा ने फेसबुक पर गीतू की सेल्फ़ी दिखाते हुए कहा। फोटो देख रोहित भी अब गंभीर हो गया।
‘‘एक तो सरकार भी निकम्मी है। ये नहीं कि ऐसी जगहों पर १८+ का बोर्ड लगा दे।’’
‘‘अरे १८+ का बोर्ड लगा देगी तो कमाएगी कैसे। उन्हें इन सबसे थोड़े ही मतलब है। बच्चे बिगड़ें तो बिगड़ें।’’
रोहित और सीमा दोनों सर पकड़ कर बैठ गए। तभी अमित अपने कमरे से निकलकर आया और इस तनाव की वजह पूछने लगा। सीमा ने मोबाइल उसके हाथ में थमाकर गीतू की सेल्फ़ी की ओर इशारा करते हुए कहा, ‘‘कितनी बार उसे समझाया कि इंडिया गेट, पुराना किला जैसी ऐतिहासिक जगहों पर बच्चे नहीं जाते!’’ अमित भी अब तनावग्रस्त था।

चीटिंग

टीवी देखते समय अचानक टपके कामुक दृश्य को देखकर राहुल ने पिता से पूछा, ‘‘पापा, वो दोनों खेल रहे हैं ना?’’
अखिल जी ने हर बार की तरह पहले तो इसे अनसुना करने की कोशिश की, फिर नज़रें चुराकर विषय बदलने का प्रयास करने लगे किन्तु राहुल के बार-बार दोहराने से उनके मुँह से हड़बड़ाहट में ‘‘हाँ’’ निकल गया।
‘‘पर पापा, वो लड़की चीटिंग कर रही है।’’
‘चीटिंग?’
‘‘हाँ पापा! खेल के बाद लड़की लड़के को चॉकलेट देती है।’’
‘‘चॉकलेट? आपको कैसे पता बेटा?’’
‘‘वो पापा, हमारी ट्यूशन वाली मैम है ना, वो भी मुझे यही गेम खिलाती है और खेलने के बाद चॉकलेट भी देती है।’’

उबाल

‘‘तुमने वो पोस्ट देखी जो मैंने तुम्हे शेयर की थी सुबह?’’
‘‘कौन सी, वो रेप वाली जिसमें बारह साल की बच्ची का रेप करके मर्डर कर दिया।’’
‘‘हाँ, हाँ वही।’’
‘‘यार इस मामले में अरब कंट्री ही बढ़िया है। ऐसे ऐसे लोगों को बीच चौराहे पर लटकाकर मारते है वहाँ।’’
‘‘अच्छा, काम की बात सुन… उसी रेप का एम एम एस आया है।’’
‘‘अच्छा, तेरे पास है क्या? दिखाना प्लीज।’’

बदलते रिश्ते

गीता को घर में ना पाकर दोनों भाई आस-पड़ोस में पूछताछ के लिए निकल पड़े
तभी रास्ते में संदीप की नज़र बिछिया पर पड़ी, ‘‘मनोज ज़रा देख तो, ये तुम्हारी भाभी की ही बिछिया है न?’’
‘‘पता नहीं भैया, मैंने कभी गौर नहीं किया।’’
दोनों थोड़ा और आगे बढ़े ही थे कि मनोज की नज़र कमरबंद पर पड़ी।
वह उत्साहित होकर चिल्ला पड़ा, ‘‘भैया, वो देखिये, भाभी का कमरबंद!’’

One thought on “छ: लघुकथाएँ – ललित कुमार मिश्रा – अंक -2

  1. vibha rani shrivastava August 17, 2017 at 10:54 am

    आपकी लिखी रचना “पांच लिंकों का आनन्द में” शनिवार 19 अगस्त 2017 को लिंक की जाएगी ….
    http://halchalwith5links.blogspot.in पर आप भी आइएगा … धन्यवाद!
    

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *